कांग्रेस के सहयोगी नेता हुए अब खिलाफ, कहा राहुल गांधी का मोदी को “चोकीदार चोर” कहना गलत है

कांग्रेस के सहयोगी नेता हुए अब खिलाफ, कहा राहुल गांधी का मोदी को “चोकीदार चोर” कहना गलत है

आजकल राजनीति का स्तर इतना गिर चुका है कि सेना प्रमुख को, “गली का गुंडा, प्रधानमंत्री को चोर, और रक्षा मंत्री को “एक महिला” मतलब महिलाओं को कमजोर दिखाने में कोई कसर नही छोड़ी जा रही.

आरोप प्रत्यारोप में भारत की राजनीति इतनी गंदी हो चुकी है, कि वो एक दूसरे का विरोध करने के प्रयास में देश का अपमान, देश के राष्ट्रीय गीत का अपमान, और भारत के प्रधानमंत्री के साथ-2 सुप्रीम कोर्ट का अपमान करने से भी नही बाज आ रहे. कांग्रेस के नेताओं का पाकिस्तान प्रेम भी आजकल चर्म पर है, कांग्रेस के नेता राम मंदिर पर सवाल उठा कर देश के करोडों हिंदुओ की आस्था को ठेस पहुंचा रहे हैं, लेकिन उनके पार्टी अध्यक्ष मोन हैं. वो पाकिस्तान में बैठ कर भारत की सरकार गिराने की बात करते हैं, लेकिन कांग्रेस अध्यक्ष मोन हैं, उनके नेता पाकिस्तान में जाकर 26/11 में सैंकड़ों लोगों को मरवाने वाले आतंकवादी “हाफिज सईद” के करीबी के साथ फोटो बनवा रहे हैं, लेकिन “राहुल गांधी” को साबित करना है कि, “चौकीदार चोर है’.

हाल ही में एक मीडिया हाउस द्वारा देश के पूर्व प्रधानमंत्री और कर्नाटक में कांग्रेस के सहयोगी दल जेडीएस प्रमुख
एच.डी देवगौड़ा का इंटरव्यू लिया, जिसमें उन्होंने चौकीदार चोर है वाले बयान को एक दम गलत बताया, आइए जानते हैं क्या बातें हुईं इंटरव्यू में.

(1) भाजपा सरकार का कामकाज- मोदी सरकार की एक प्रकार से तारीफ की उन्होंने और कहा, उनकी टीम बहुत बढिया काम करती है. उनके प्रचार में भी अच्छा खासा पैसा खर्च किया जा रहा है. इसके साथ ही उन्होंने कहा कि यह पैसा लोगों द्वारा दिया गया दान है. देवगौड़ा जी नें यहां तक कह की मैं नही कहता कि, “मोदी सरकार की सभी योजनाएं खराब हैं, लेकिन जमीनी स्तर और कागजों में काम का अंतर होता है.

(2) स्वर्णों को आरक्षण मिलने पर क्या असर दिखेगा- उन्होंने नें इस सवाल का जवाब देते हुए कहा, इसमें भाजपा धैर्य नही रख पाई. एक दम से सदन में आरक्षण बिल पेश कर दिया गया. इसको लेकर एक दम से बहुत बहस बाजी भी हुई, लेकिन यह कहा नही जा सकता कि इसका फायदा होगा या नुकसान.

(3) राफेल डील विवाद- वैसे देश का सुप्रीम कोर्ट इस बात की पुष्टि कर चुका है कि, राफेल जहाज डील में कोई घोटाला नही है. उन्होंने इसी विवाद का जवाब देते हुए कहा कि एमरजेंसी में की गई डील का कोई हिसाब-किताब होता है सरकार का, मैं इसपे नही जाउंगा, लेकिन उसके साथ ही उन्होंने कहा कि मोदी जी को सदन में आकर अपनी बात रखनी चाहिए थी.

(4) चौकीदार चोर है: गलत या सही- उन्होंने कहा कि ये भाषा एक दम गलत है. प्रधानमंत्री की गरिमा होती है जिसको ठेस नही पहुंचनी चाहिए. वो पूरे देश के प्रधानमंत्री हैं, बल्कि न किसी एक पार्टी के. हम बुजुर्ग नेताओं के पास “अनुभव होता है, धैर्य होता है, और हम आसानी से जवाब दे देते हैं, लेकिन युवा नेताओं के पास धैर्य नही है, और वो भावुक होकर अपना धैर्य खो बैठते हैं.

(5) क्या UPA-3 की सरकार आएगी ??

इस बात का जवाब एक लाइन में था, यह तो जनता के हाथ में है कोन आएगा.